खुशखबरी: उत्तराखंड में अब पर्यटक ले सकेंगे हवाई सफर का भी मजा, 20 मार्गों को मिली मंजूरी

0
15

ऋषिकेश: उत्तराखंड में पर्यटक अब हवाई सफर का भी लुत्फ उठा सकेंगे. पर्यटक अब उत्तराखंड में इंटरस्टेट उड़ान भर सकेंगे. इसके लिए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने क्षेत्रीय संपर्क योजना के तहत उड़ान- 2 के लिए रास्ता साफ कर दिया है. इसके लिए उत्तराखंड के 26 मार्गों को शामिल किया गया है. इस खुशखबरी के बारे में बात करते हुए ऋषिकेश में प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड आने वाले पर्यटकों के लिए हवाई मार्ग खोलने से एक नई शुरुआत हो जाएगी. इस शुरुआत से उत्तराखंड पर्यटन को नई पहचान मिलने की उम्मीद है.

इस ‘डर’ से उत्तराखंड नहीं आते थे लोग
गौरतलब है कि विषम भौगोलिक परिस्थिति के चलते उत्तराखंड में यात्रा करना पर्यटक और आम आदमियों पर भारी पड़ता था. ज्यादा समय लगना और लैंडस्लाइड के समय घंटों का इंतजार पर्यटकों को उत्तराखंड में आने से रोके रखता था. लेकिन, अब 2018 में उत्तराखंड के 26 मार्गों पर हवाई सेवा का रास्ता साफ हो गया है. केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने पवन हंस लिमिटेड और हेरिटेज एविएशन को सेवा शुरू करने की अनुमति प्रदान कर दी है. 2 महीने के अंदर इन मार्गों पर सस्ती दर पर हेलीकॉप्टर और विमान सेवा शुरू कर दी जाएगी.

Uttarakhand Tourism, air connectivity, Trivendra Singh Rawat, देवभूमि, त्रिवेंद्र सिंह रावत

जल्द शुरू हो जाएंगी हवाई सेवाएं
आपको बता दें कि केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने क्षेत्रीय संपर्क योजना के तहत उड़ान- दो योजना में देशभर के 300 मार्गों का आवंटन किया है. इसमें उत्तराखंड के 26 मार्ग शामिल हैं. प्रदेश में 26 मार्गों पर उड़ान- 2 के तहत कम कीमतों पर हवाई जहाज और हेलीकॉप्टर सेवा शुरू करने की अनुमति प्रदान कर दी गई है. अब डीजीसीए और एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की औपचारिकता पूरी करने के बाद कंपनियां सेवा देना शुरू कर सकेंगी. जानकारी के मुताबिक हवाई जहाज 15 सौ रुपये से लेकर 2000 रुपये प्रति व्यक्ति चार्ज करेंगे. जबकि हेलीकॉप्टर 3000 रुपये से लेकर 4500 रुपये प्रति यात्री किराया वसूलेगा.

Uttarakhand Tourism, air connectivity, Trivendra Singh Rawat, देवभूमि, त्रिवेंद्र सिंह रावत

बढ़ेगी रेल कनेक्टिविटी
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदेश में पर्यटन और रोजगार को बढ़ावा देने के लिए नए रेल कनेक्टिविटी की भी बात कही है. उन्होंने बताया कि जल्द ही प्रदेश को नई रेल कनेक्टिविटी से जोड़ा जाएगा ताकि यहां का पर्यटन और मजबूत हो सके. इन दोनों प्रोजेक्ट से उत्तराखंड में पर्यटन को नई ऊंचाई मिलेगी.

होगा सबका फायदा
आपको बता दें कि देवभूमि उत्तराखंड में हर साल लाखों पर्यटक आते हैं. ऐसे में अगर हवाई और रेल यातायात बेहतर ढंग से चलेगा तो उसका फायदा यहां पहुंचने वाले पर्यटकों और यहां के स्थानीय लोगों को ही मिलेगा.