केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने कहा है कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ होने से कम होगा चुनावी खर्च

0
27

जींद : 2019 में केंद्र सरकार लोकसभा के साथ ही देश में विधानसभा चुनाव कराए जाने पर विचार कर रही है. इसके लिए अन्य राजनीतिक दलों से मंत्रणा करनी भी शुरू कर दी है. इतना ही नहीं इस सुझाव को लेकर केंद्र के मंत्री जनता के बीच भी जा रहे हैं.

केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार देश में लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव एक साथ करवाने पर विचार कर रही है. अगर ऐसा हो जाता है, तो चुनाव पर खर्च होने वाले पांच हजार करोड़ रुपये और मानवीय ऊर्जा को भी बचाया जा सकता है.

जींद में बार एसोसिएशन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ‘एक देश-एक चुनाव’ पर विचार कर रही है. अगर यह निर्णय ले लिया जाता है, तो इससे देश को काफी फायदा पंहुचेगा. फिलहाल चुनाव को लेकर जो व्यवस्था चल रही है, उससे कभी लोकसभा के तो कभी किसी राज्य की विधानसभा के चुनाव होते रहते हैं. इस कार्य पर सरकार द्वारा काफी धन राशि खर्च करनी पड़ती है और सरकारी अधिकारी एवं कर्मचारी भी चुनाव कार्य में ही उलझे रहते है, जिससे देश के विकास पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है.

केंद्रीय कानून एवं न्याय राज्य मंत्री पीपी चौधरी ने कहा कि न्यायालयों में रिक्त पड़े पदों को भरा जाना भी बहुत जरूरी होता है. खाली पड़े पदों को भरने से न्याय प्रक्रिया में तेजी आती है. वर्ष 2016-17 में न्यायालयों में रिक्त पड़े काफी पदों को भरा गया है.

उधर, बिहार की सत्तारूढ़ पार्टी जेडीयू ने सरकार के इस सुझाव का समर्थन किया है. साथ ही पार्टी ने कहा कि लेकिन यह संभव नहीं है. पार्टी ने कहा कि सैद्धांतिक तौर पर पार्टी केंद्र के इस सुझाव के साथ है.