Home > सेहत > बजट 2018 : ‘आयुष्मान भारत’ से सुधरेगा स्वास्थ्य, मिलेगा 5 लाख का हेल्थ बीमा

बजट 2018 : ‘आयुष्मान भारत’ से सुधरेगा स्वास्थ्य, मिलेगा 5 लाख का हेल्थ बीमा

नई दिल्ली : वित्त मंत्री अरुण जेटली लोकसभा में बजट 2018 पेश कर रहे हैं. इस दौरान वित्त मंत्री ने कई बड़ी योजनाओं का ऐलान किया. देश की गरीब जनता के स्वास्थ्य के लिए अरुण जेटली ने ‘आयुष्मान भारत’ योजना का ऐलान किया. इस योजना के अंतर्गत 50 करोड़ लोगों को 5 लाख रुपए का हेल्थ बीमा मिलेगा. उन्होंने कहा कि देश की 40 प्रतिशत आबादी को सरकारी हेल्थ बीमा उपलब्ध कराया जाएगा. साथ ही टीवी के मरीज को सरकार की तरफ से हर महीने 500 रुपए दिए जाएंगे.

इसके अलावा अरुण जेटली ने सरकार के आखिरी पूर्ण आम बजट में लोगों को सस्ते आवास मुहैया कराने के लिए अपनी सरकार की प्रतिबद्धता जताई. उन्होंने कहा कि सरकार का मकसद शहरी और ग्रामीण इलाकों में सस्ते आवास मुहैया कराए जाएं. इसके अलावा जेटली ने आम बजट में किसानों के लिए भी खास घोषणाएं कीं. आगे पढ़िए वित्त मंत्री की क्या प्रमुख घोषणाएं रहीं.

 

बजट की प्रमुख घोषणाएं

  • स्वास्थ्य सेवाओं के लिए ‘आयुष्मान भारत’ योजना का ऐलान किया
  • योजना के अंतर्गत 50 करोड़ लोगों को 5 लाख रुपए का हेल्थ बीमा मिलेगा
  • देश की 40 प्रतिशत आबादी को सरकारी हेल्थ बीमा मिलेगा
  • टीवी के मरीज को सरकार की तरफ से हर महीने 500 रुपए
  • स्वास्थ्य के लिए 1.5 लाख आरोग्य केंद्र बनाए जाएंगे
  • तीन संसदीय क्षेत्रों को मिलाकर एक मेडिकल कॉलेज खुलेगा
  • 12 रुपये के प्रीमियम पर 2 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा
  • 5 लाख नए स्वास्थ्य केंद्र लोगों के घरों के पास बनाए जाएंगे
  • हर बच्चे तक शिक्षा पहुंचाने का प्लान, नर्सरी से 12वीं तक पढ़ाई के लिए एक नीति
  • खेतों की सिंचाई के लिए 2600 करोड़ रुपए का फंड
  • अध्यापकों की ट्रेनिंग के लिए डिजीटल पोर्टल बनाया जाएगा
  • पशुपालन, मत्स्यपालन के लिए 10 हजार करोड़
  • उज्ज्वला योजना में 8 करोड़ गरीबों को गैस कनेक्शन दिया जाएगा
  • सौभाग्य योजना में 4 करोड़ लोगों को बिजली का कनेक्शन दिया जाएगा
  • स्वच्छता के लिए छह करोड़ शौचालय बनवाएं
  • अगले वित्तीय वर्ष में दो करोड़ शौचालय बनाए जाएंगे
  • पशुपालन, मत्स्यपालन के लिए 10 हजार करोड़
  • आलू- प्याज की खेती को बढ़ावा दिया जाएगा
  • पशुपालन, मछली पालन के लिए क्रेडिट कार्ड
  • शिक्षा और स्वास्थ्य के लिए व्यापक योजना बनाई गई

निर्यात 15 फीसदी बढ़ेगा
इससे पहले वित्त मंत्री ने कहा कि भारत में पहले के मुकाबले कारोबार करना आसान हुआ है. भारत दुनिया में तेजी से उभरती हुई अर्थव्यवस्था है. उन्होंने कहा कि जीएसटी आने के बाद कर संग्रह में इजाफा हुआ है. इससे भारत आने वाले समय में दुनिया में पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगा. वित्त मंत्री ने उम्मीद जताई कि साल 2017-18 में निर्यात 15 फीसदी तक बढ़ेगा. आईएमएफ ने हमारी तारीफ की है. हमारी सरकार के पहले तीन साल में औसत विकास दर 7.5 फीसदी रही है. लोगों की परेशानियों को देखते हुए सरकार ने गैर जरूरी कानून खत्म कर दिए हैं.

हमारा जोर ईज ऑफ लिविंग पर
वित्त मंत्री ने यह भी कहा कि हमारा जोर लगातार ईज ऑफ लिविंग पर है. सरकार के प्रयासों से देश में निवेश में बढ़ोतरी हुई है. सरकार लगातार गरीबी दूर करने की कोशिश की है. उन्होंने कहा कि सरकार का जोर लगातार गांवों के विकास पर है. वर्ष 2016-17 में 300 मिलियन टन फलों और सब्जियों का उत्पादन हुआ है. इस दौरान उन्होंने आम लोगों की जिंदगी में सरकारी दखल कम करने की भी वकालत की.

error: Content is protected !!