दक्षिण चीन सागर में चीन की गतिविधियों से ASEAN देश नाराज, कहा-भरोसा टूटा

0
43

सिंगापुरः दक्षिण चीन सागर में चीन की लगातार दावेदारी से दावेदारों के बीच भरोसा खत्म हुआ है और इससे क्षेत्रीय तनाव बढ़ सकता है. दक्षिणपूर्वी एशिया के विदेश मंत्रियों ने मंगलवार (6 फरवरी) यह कहा. सिंगापुर में एक दिवसीय बैठक के एक दिन बाद जारी वक्तव्य में दस सदस्यीय दक्षिणपूर्वी एशियाई राष्ट्रों के संगठन (आसियान) ने चीन का नाम नहीं लिया . बीजिंग लगभग पूरे जलक्षेत्र पर दावा जताता है. वह छोटे टापुओं को द्वीपों में बदल रहा है और वहां सैन्य सुविधाएं और उपकरण लगा रहा है. आसियान के सदस्य मलेशिया, ब्रुनेई, फिलीपीन, वियतनाम और ताईवान भी यहां कुछ हिस्सों पर दावे जताते हैं.

सिंगापुर के विदेश मंत्री विवियन बालकृष्णन ने वक्तव्य में कहा कि मंत्रियों ने ‘‘क्षेत्र में गतिविधियों और भूमि पर फिर से दावेदारी पर कुछ मंत्रियों द्वारा जताई गई चिंता पर गौर किया. इससे क्षेत्र में भरोसा खत्म हुआ, तनाव बढ़ा और शांति, सुरक्षा तथा स्थिरता प्रभावित हो सकती है. ’’

अमेरिकी थिंक टैंक ने उपग्रह से प्राप्त नई तस्वीरों में विवादित द्वीपों पर रडार तथा अन्य उपकरण तैनात किए जाने की तस्वीरें जारी की थी. जिसके बाद दिसंबर में चीन ने वहां निर्माण को ‘‘सामान्य’’ बताकर अपनी गतिविधि का बचाव करने की कोशिश की थी.

आसियान देशों के विदेश मंत्रियों ने स्मार्ट सिटी पर चर्चा के लिए बातचीत शुरू की
आतंकवाद एवं अंतरराष्ट्रीय अपराध के खिलाफ सहयोग बढ़ाने और क्षेत्र में ‘स्मार्ट सिटीज’ का नेटवर्क विकसित करने की योजनाओं पर चर्चा करने के लिए दक्षिण पूर्व एशियाई राष्ट्र संघ (आसियान) के विदेश मंत्रियों ने आज यहां अनौपचारिक बातचीत शुरू की. सिंगापुर की अध्यक्षता में 10 सदस्यीय आसियान की यह मंत्रियों की इस साल की पहली बैठक होगी. सिंगापुर के विदेश मंत्री विवियन बालाकृष्णन ने कहा कि वार्षिक ‘रिट्रीट’ के दौरान 51 वर्ष पुराना संघ सिंगापुर द्वारा चयनित विषय ‘लचीलापन एवं नवोन्मेष’ के आधार पर आगे की राह तय करने पर ध्यान केंद्रित करेगा.

उन्होंने कहा कि मंत्री आसियान स्मार्ट सिटी विकसित करने के सिंगापुर के प्रस्ताव पर भी चर्चा करेंगे जो लोगों के जीवन में सुधार के लिए तकनीक को बढ़ावा देगा. बालाकृष्णन ने बैठक की शुरूआत में कहा, ‘‘हमें आतंकवाद, अंतरराष्ट्रीय अपराध और साइबर अपराध जैसे अंतरराष्ट्रीय एवं साझे खतरों के खिलाफ हमारे सामूहिक प्रयास तेज करने की आवश्यकता है.’’  सिंगापुर के विदेश मंत्री ने एक बयान में कहा कि मंत्री क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय गतिविधियों पर भी अपने विचार व्यक्त करेंगे.