कासगंज हिंसा को लेकर योगी सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरेगी कांग्रेस

0
27

नई दिल्ली : कासगंज में 26 जनवरी के मौके पर तिरंगा यात्रा के दौरान हुए बवाल और उसके बाद शहर में फैली सांप्रदायिक हिंसा को लेकर योगी सरकार को घेरने की पूरी तैयारी कर ली है. कासगंज हिंसा भड़कने के साथ ही विपक्षी राजनीतिक पार्टियों ने राज्य की बीजेपी सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया था. लेकिन, कांग्रेस इस मामले में राज्य सरकार को लगातार निशाना बना रही है. ताजा जानकारी के मुताबिक इसी मुद्दे पर कांग्रेस पार्टी का एक बड़ा कार्यकर्ता सम्मेलन शनिवार को लखनऊ में बुलाया गया है.

कासगंज हिंसा को योगी सरकार के खिलाफ मुद्दा बनाएगी कांग्रेस
बताया जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी ने यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरने का फैसला किया है. कासगंज में हुई सांप्रदायिक हिंसा को भी कांग्रेस ने योगी सरकार के खिलाफ मुद्दा बनाने का फैसला किया है. शनिवार को आयोजित कार्यक्रम में इस पर अंतिम मुहर लग जाएगी.

आजाद और राजब्बर दिल्ली से पहुंचेंगे लखनऊ
इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए कांग्रेस महासचिव गुलाम नबी आजाद, प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर दिल्ली से लखनऊ पहुंच रहे हैं. कार्यकर्ता सम्मेलन में यूपी की राजनीतिक स्थिति पर विचार भी किया जाएगा. कासगंज में हुई सांप्रदायिक हिंसा को भी कांग्रेस योगी सरकार के खिलाफ एक राजनीतिक मुद्दा बनाएगी. इसके साथ ही पार्टी को मजबूत बनाने के लिए नए कार्यक्रम पर चर्चा होगी.

सांसद और पूर्व सांसद समेत सभी बड़े नेता और कार्यकर्ता होंगे शामिल
कार्यकर्ता सम्मेलन में कांग्रेस पार्टी के तमाम सांसदों और पूर्व सांसदों को भी बुलाया गया है. इनमें सांसद पीएल पुनिया, प्रमोद तिवारी, पूर्व सांसद जितिन प्रसाद, जफर अली नकवी, आरपीएन सिंह, श्रीप्रकाश जायसवाल, सलमान खुर्शीद समेत तमाम बड़े नेता, विधायक और कार्यकर्ता हिस्सा लेंगे.

मंगलवार को कांग्रेस ने किया था सत्याग्रह
कासगंज में हुई हिंसा के खिलाफ कांग्रेस ने मंगलवार को लखनऊ में सत्याग्रह भी शुरू किया था. कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि बीजेपी सरकार जानबूझकर इस तरह की हिंसा फैला रही है. कांग्रेस ने गांधी जी की पुण्यतिथि के मौके पर लखनऊ में गांधी प्रतिमा पर मौन प्रदर्शन किया था.