दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कोच ने बताया कि क्यों नहीं बनी पहले दो वनडे में तेज पिचें

0
21

सेंचुरियन :  दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कोच रे जेनिंग्स ने भारत के खिलाफ हाल ही में खत्म हुई टेस्ट श्रृंखला में टीम प्रबंधन की पिचों को अपने मुफीद बनाने की कोशिश की तीखी आलोचना करते हुए आज कहा कि यह रणनीति लगभग उलटी पड़ गयी थी. जेनिंग्स ने कहा, ‘‘ उन्होंने टेस्ट मैचों में पिच को अपने मुफीद बनाने की कोशिश की, यह इतना करीबी मुकाबला था कि दक्षिण अफ्रीका श्रृंखला गंवा सकता था. ऐसी पिचें कोई मदद नहीं करेंगी क्योंकि भारत के पास शानदार तेज आक्रमण है. यहां तक कि तेज गेंदबाजों को मदद करने वाली नमी भरी पिच से स्पिनरों को भी फायदा मिलता है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘ दस साल पहले भारत के पास कोई तेज गेंदबाज नहीं था, अब उनके पास बहुत सारे हैं, अंडर-19 स्तर से ही और उनकी न्यूनतम रफ्तार 135 किलोमीटर प्रतिघंटे है जो कुछ साल पहले तक अधिकतम होती थी.’’ जेनिंग्स ने कहा, ‘‘ ऐसी पिचों का चयन बिलकुल गलत है. उन्होंने पिचों में काफी नमी रखी लेकिन ऐसी पिचें स्पिनरों की भी मदद करती है.’’

उन्होंने बल्लेबाजी कोच डेल बेंकनस्टीन की उस बात का समर्थन किया जिसमें उन्होंने कहा था कि युजवेन्द्र चहल और कुलदीप यादव के खिलाफ तैयारी के लिए उनके पास समय नहीं था. जेनिंग्स ने कहा, ‘‘ इतने कम समय में कुछ भी नहीं हो सकता. इस स्तर पर अगर आप स्पिन खेलने के बारे में नहीं जानते हैं, तो आपको सिर्फ अयोग्यता के साथ रहना होगा.’’

गौरतलब है कि भारत के वर्तमान दक्षिण अफ्रीकी दौरे पर वहां की तेज पिचों पर मेजबानों की बल्लेबाजी का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है. हालांकि दक्षिण अफ्रीका पहले दो टेस्ट जीत कर तीन टेस्ट मैचों  की सीरीज में अजेय बढ़त हासिल कर ली थी. लेकिन भारत ने तीसरा टेस्ट जीत कर ऐसी वापसी की कि वनडे सीरीज में तेज पिचें ही दिखाई नहीं दी. इसका पूरा फायदा भारत के स्पिनर्स ने उठाया और टीम इंडिया ने दक्षिण अफ्रीका केो पहले दो वनडे में करारी मात दे दी.

(इनपुट भाषा)