PM मोदी बोले- कनार्टक में हवा का रुख बदल गया है, अब यहां कांग्रेस EXIT गेट पर खड़ी है

0
29

बेंगलुरु: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की 90 दिवसीय यात्रा की समाप्ति पर रविवार (4 फरवरी) को यहां आयोजित एक समापन रैली में भाग ले रहे हैं. आपको बता दें कि कर्नाटक में इस वर्ष विधानसभा चुनाव होने हैं. जिसकी तैयारी के तहत ही बीजेपी ने राज्य में ‘नव कर्नाटक निर्माण यात्रा’ प्रारंभ की थी. पीएम मोदी बेंगलुरु के पैलेस ग्राउंड में भाजपा की रैली को संबोधित कर रहे हैं. पीएम मोदी ने भाषण की शुरुआत में कहा कि  पूरा देश देख रहा है कि कर्नाटक की हवा बदल रही है. कांग्रेस यहां EXIT गेट पर खड़ी है. इस बार हम कांग्रेस को यहां से बाहर करके रहेंगे.

पीएम मोदी ने कहा, कर्नाटक के लोगों को कांग्रेस का कल्चर नहीं चाहिए. अब इस पार्टी का समय पूरा हो गया है. हम कांग्रेस मुक्त देश की ओर बढ़ रहे हैं. बीजेपी की सरकार कर्नाटक में विकास की गति को गति देंगी.’ उन्होंने कहा, ‘कर्नाटक में जनधन योजना के अंतर्गत एक करोड़ 16 लाख लोगों का बैंक खाता खुला है. इस राज्य के एक करोड़ लोगों को बीमा योजना को लाभ मिलेगा.’ पीएम ने रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘अगर एक दिन बेंगलुरु में बिजली ना आए तो कैसा हाहाकार मच जाएगा, लेकिन कर्नाटक में ऐसे 7 लाख और देश में ऐसे 4 करोड़ घर हैं, जो आजादी के इतने वर्षों बाद भी अंधेरे में ही हैं. इन घरों में बिजली कनेक्शन से घरों में ही रोशनी नहीं होगी, बल्कि लोगों का जीवन भी रोशन होगा. सौभाग्य योजना में हमने वहां 7 लाख गांवों में बिजली पहुंचाकर लोगों का जीवन रोशन करने की कोशिश की है.’

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘सरकार ने इस वर्ष देश भर में 9,000 kms से ज्यादा नेशनल हाइवे बनाने का लक्ष्य रखा है. भारतमाला परियोजना के तहत 5 लाख 35 हजार करोड़ रुपए की लागत राशि से 35 हजार किलोमीटर सड़कों का निर्माण किया जाएगा. सरकार देश के 600 बड़े रेलवे स्टेशनों के आधुनिकीकरण का काम भी हाथ में ले रही है.’

1 फरवरी को संसद में पेश आम बजट की तारीफ करते हुए कहा पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘इस बजट में सरकार द्वारा किसानों को उनकी फसल की सही कीमत से जुड़ा एक महत्वपूर्ण फैसला लिया गया है. सरकार ने तय किया है कि विभिन्न कृषि उत्पादों पर, किसानों लागत की कम से कम डेढ़ गुना राशि अवश्य दी जाएगी.’

पीएम मोदी ने बताया कि उऩकी सरकार की पहली प्राथमिकता किसान हैं. उन्होंने कहा, ‘फल और सब्जियां पैदा करने वाले किसान हमारे लिए TOP प्रायरटी पर हैं. TOP यानि Tomato, Onion & Potato, पैदा करने वाले किसानों को ध्यान में रखते हुए ऑपरेशन ग्रीन्स की घोषणा की गई है. दूध के क्षेत्र में अमूल मॉडल बहुत कामयाब रहा वैसे ही ऑपरेशन ग्रीन्स किसानों के लिए लाभकारी रहेगा.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘पूरी दुनिया में Ease Of Doing Business की बात की जाती है, हमारी सरकार Ease Of Living की बात करती है लेकिन कर्नाटक की कांग्रेस सरकार के रहते यहां Ease of Doing Murder की चर्चा होती है। स्थिति ये है कि कर्नाटक सरकार का राजनीतिक विरोध करना भी जान जोखिम में डालने के बराबर है.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘विरोध करने वाले को विरोध की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़े, ये लोकतंत्र के लिए खतरनाक संकेत है। जिस तरह से बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या हुई है, इस से सामाज पर गहरी चोट पहुंची है और इस चोट का जवाब वोट से देना है.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘PMAY-U के तहत कर्नाटक के लिए अब तक 3 लाख 36 हजार घरों को स्वीकृति दी गई है। लेकिन इसमें से अब तक सिर्फ 38 हजार घर ही पूरे हो पाए हैं। करीब 2 लाख स्वीकृत घरों के लिए तो अब तक काम भी नहीं शुरू हुआ है.’

दो नवंबर 2017 को भाजपा ने शुरू की थी परिवर्तन यात्रा
‘नव कर्नाटक निर्माण’ परिवर्तन यात्रा को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने दो नवंबर को 224 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए हरी झंडी दिखाई थी. पार्टी की राज्य इकाई ने एक ऑनलाइन पंजीकरण शुरू किया है और सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर युवाओं, तकनीकी जानकारों, शिक्षित वर्ग व वरिष्ठ जनों को आमंत्रित किया है और उन्हें सीट की व्यवस्था सुनिश्चित की है. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, कर्नाटक के चुनाव अभियान प्रभारी पीयूष गोयल, अनंत कुमार, डी.वी.सदानंद गौड़ा व अनंत कुमार हेगड़े के इस कार्यक्रम में भाग लेने की उम्मीद है.

अप्रैल-मई में होना है विधानसभा चुनाव
शहर के पुलिस आयुक्त टी.सुनील कुमार ने कहा कि कम से कम 1,000 पुलिस कर्मियों को समारोह स्थल पर तैनात किया गया है, इसके अलावा 1,200 यातायात पुलिस के कर्मियों को यातायात प्रबंधन में लगाया गया है. यात्रा का नेतृत्व राज्य इकाई के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने किया है. इसका मकसद विकास के जरिए कर्नाटक में बदलाव लाकर भाजपा को सत्ता में वापस लाना है. दक्षिणी राज्य में विधानसभा चुनाव आगामी अप्रैल-मई में होने हैं. भाजपा 2008 में अपने दम पर यहां सत्ता में आई थी, लेकिन पांच साल बाद 2013 के चुनाव में हारकर वह सत्ता से बाहर चली गई.