पाकिस्तान को अमेरिका की चेतावनी, आतंकवाद का ‘साथ’ देने वाला हमारा दोस्त नहीं हो सकता

0
65

वॉशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान को दी जाने वाली सुरक्षा सहायता पर रोक लगाकर यह संदेश देने की कोशिश की कि सहायता पाने वाले आतंकवाद को समर्थन देकर या उसे अनदेखा करके अमेरिका के दोस्त नहीं हो सकते. व्हाइट हाउस ने यह जानकारी दी. अमेरिका की ओर से ऐसे संदेश का लंबे समय से इंतजार किया जा रहा था. ट्रंप प्रशासन ने पाकिस्तान पर आरोप लगाया था कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में वह पर्याप्त काम नहीं कर रहा है, इसके साथ ही पिछले महीने उसे दी जाने वाली करीब दो अरब डॉलर की सुरक्षा सहायता पर भी रोक लगा दी थी.

ट्रंप के हाल के फैसलों का हवाला देते हुए व्हाइट हाउस ने उनकी विदेश नीति का फैक्ट शीट में विस्तृत ब्यौरा देते हुए कहा, ‘‘ राष्ट्रपति ट्रंप हमारे सहयोगियों को यह स्पष्ट कर रहे हैं कि आतंक का समर्थन करके, या उसे अनदेखा करके वह अमेरिका के मित्र नहीं बन सकते. ’’

मंगलवार (30 जनवरी) को ट्रंप के पहले स्टेट ऑफ दी यूनियन संबोधन के बाद व्हाइट हाउस ने फैक्ट शीट में कहा, ‘‘राष्ट्रपति ने पाकिस्तान को सुरक्षा सहायता रोक दी और इस तरह सहायता पाने वालों को संदेश दिया कि हम उनसे यह उम्मीद करते हैं कि वह आतंकवाद से लड़ाई में पूरी तरह हमारे साथ होंगे.’’

पाकिस्तान ने आतंकवाद को समर्थन देने के आरोपों से इनकार किया है. व्हाइट हाउस के मुताबिक ट्रंप अमेरिका की सुरक्षा को जो खतरे हैं उन पर लगातार ध्यान देंगे और कट्टरपंथी इस्लामिक आतंक तथा इसकी विचारधारा से मुकाबला करने और उसे हराने के प्रयासों को प्राथमिकता देंगे.

इससे पहले अमेरिका ने यह स्पष्ट कर दिया है कि वह पाकिस्तान से अपनी सरजमीन पर स्थित आतंकवादियों की पनाहगाह के खिलाफ कार्रवाई करने की उम्मीद करता है. हाल में अफगानिस्तान की यात्रा से लौटे अमेरिका के विदेश उपमंत्री जॉन जे. सुलिवन ने कहा कि अमेरिका पाकिस्तान से यह भी उम्मीद करता है कि वह क्षेत्र में स्थायी शांति बनाने में योगदान देगा. सुलिवन ने अफगानिस्तान से वापस आने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘अफगान नेतृत्व के साथ वार्ता के दौरान मैंने निश्चित ही इस विषय पर बात की.’’ सुलिवन ने कहा, ‘‘हमने पाकिस्तान सरकार को अपनी इस उम्मीद के बारे में यह स्पष्ट कर दिया है कि वह पाकिस्तान में स्थित पनाहगाह में मौजूद आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करे ताकि अफगानिस्तान में हिंसा का खतरा और दबाव कम हो सके.’’

सुलिवन ने कहा कि अफगानिस्तान की उनकी यात्रा में उन्हें देश के साथ अपनी साझीदारी को मजबूत करने की अमेरिका की प्रतिबद्धता को फिर से पुष्ट करने का अवसर मिला. उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि इस चरण पर हर किसी के शांति चाहने के बावजूद तालिबान वार्ता की मेज पर आने का इच्छुक प्रतीत नहीं होता.

सुलिवन ने कहा कि उन्होंने अफगानिस्तान के नेताओं के साथ सुरक्षा सहयोग और समय से, विश्वनीय एवं समावेशी संसदीय एवं राष्ट्रपति चुनाव कराने की महत्ता पर चर्चा की. पेंटागन की मुख्य प्रवक्ता डाना व्हाइट ने भी कहा कि नई दक्षिण एशियाई रणनीति के तहत पाकिस्तान के पास आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साझीदार बनने का अवसर है. उन्होंने कहा, ‘‘वह (पाकिस्तान) आतंकवाद से पीड़ित रहा है और उसने आतंकवाद को सहयोग दिया है. हम चाहते हैं कि वह आतंकवाद का मुकाबला करने में सक्रिय भूमिका निभाए.’’