Home > दुनिया > पीएम मोदी ने यूएई में बहादुर सैनिकों को दी श्रद्धांजलि, राष्ट्र के लिए अपना जीवन किया था कुर्बान

पीएम मोदी ने यूएई में बहादुर सैनिकों को दी श्रद्धांजलि, राष्ट्र के लिए अपना जीवन किया था कुर्बान

अबू धाबी: भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (11 फरवरी) को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में युद्ध स्मारक ‘वाहत अल करामा’ पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि दी, जिन्होंने राष्ट्र के लिए अपना जीवन कुर्बान कर दिया. भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, “एक और व्यस्त दिन शुरू करने का प्रेरणादायक तरीका. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाहत अल करामा पर संयुक्त अरब अमीरात के उन बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की, जिन्होंने देश सेवा के लिए अपना जीवन कुर्बान कर दिया. ‘नखलिस्तान का गौरव’..अबू धाबी में.”

Narendra Modi, Soldiers, UAE, Wahat Al Karama

मोदी ने श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद स्मारक का भ्रमण किया और आगंतुक पुस्तिका में अपने विचार लिखे. मोदी फिलिस्तीन के दौरे के बाद पश्चिम एशिया और खाड़ी देशों के अपने तीन दिवसीय दौरे के दूसरे चरण में शनिवार (10 फरवरी) देर शाम यहां पहुंचे. मोदी और अबू धाबी के क्राउन प्रिंस व संयुक्त अरब अमीरात के सशस्त्र बलों के उप कमांडर शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के बाद शनिवार को भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच पांच समझौते हुए. मोदी इससे पहले 2015 में संयुक्त अरब अमीरात के दौरे पर गए थे.

वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार (11 फरवरी) को वीडियो लिंकिंग के जरिए संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की राजधानी अबू धाबी में पहले हिंदू मंदिर की आधारशिला रखी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अबू धाबी में बनने वाले भव्य मंदिर के लिए 125 करोड़ भारतीयों की ओर से वली अहद शहजादा मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान को धन्यवाद दिया. अबू धाबी में भारतीय मूल के तीस लाख से ज्यादा लोग रहते हैं. मंदिर समिति के सदस्यों ने मंदिर से जुड़ा साहित्य मोदी को शनिवार (10 फरवरी) रात यहां पहुंचने पर दिया. प्रधानमंत्री यूएई की 2015 की अपनी यात्रा के बाद दूसरी बार यहां आए हैं. दुबई-अबू धाबी राजमार्ग पर बनने वाला यह अबू धाबी का पहला पत्थर से निर्मित मंदिर होगा. अबू धाबी में प्रथम हिंदू मंदिर 55000 वर्ग मीटर भूमि पर बनेगा. भारतीय प्रधानमंत्री समुदाय के कार्यक्रम के दौरान मंदिर की आधारशिला रखे जाने के साक्षी बनें.

error: Content is protected !!