दिल्ली HC ने कहा: शिकायत के लिए मुख्य सचिव को परेशान नहीं किया जा सकता

0
10

नई दिल्ली: दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को कहा कि कथित हाथापाई की शिकायत के लिए विधानसभा की समितियों के जरिए नोटिस देकर मुख्य सचिव अंशु प्रकाश को परेशान नहीं किया जा सकता. न्यायमूर्ति मुक्ता गुप्ता ने कहा कि यह‘ बहुत दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है जहां सरकार और अधिकारी असुरक्षित महसूस करते हैं तथा एक दूसरे को धमकी दे रहे हैं.’

अदालत ने जमानत याचिका पर फैसला रखा सुरक्षित
अदालत ने देवली से आप विधायक प्रकाश जारवाल की जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी की. मुख्य सचिव के साथ हाथापाई मामले में 20 फरवरी को जारवाल को गिरफ्तार किया गया था. जरवाल की जमानत याचिका पर अदालत अपना फैसला सुरक्षित रख लिया और आप के एक अन्य विधायक अमानतुल्ला खान की जमानत याचिका पर को दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी करने के साथ ही उससे इस मामले में 12 मार्च तक स्थिति रिपोर्ट मांगी है.

और क्या अदालत ने?
अदालत ने कहा, ‘‘ आप शिकायतकर्ता को इस तरह परेशान नहीं कर सकते. येनकेन प्रकारेण, मुख्य सचिव को परेशान किया जा रहा है. क्या यह जमानत याचिका खारिज करने का आधार नहीं हो सकता?’’ इससे पहले उच्च न्यायालय ने राजधानी में कानून व्यवस्था की स्थिति पर सवाल उठाया था.

अदालत ने कहा कि वह इस बात को लेकर चिंतित है कि अगर दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं उपमुख्यमंत्री की मौजूदगी में किसी व्यक्ति के साथ हाथापाई हो सकती है तो अन्य जगहों की क्या हालत होगी.