गोरखपुर-फूलपुर और अररिया सीट पर वोटिंग आज, सुरक्षा के कड़े इंतजाम

0
2

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश की दो लोकसभा और बिहार की एक सीट पर आज वोट डाले जाएंगे. इन सीटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए है. फूलपुर और गोरखपुर सीट पर होने वाले चुनाव पर सभी दल अपनी-अपनी जीत के लिए ताल ठोंक रहे हैं. गोरखपुर खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का गृह जनपद है और इस सीट से वह लगातार पांच बार सांसद चुने गए थे. ये दोनों ही सीटें बीजेपी के कब्जे वाली मानी जाती है.

सुरक्षा के कड़े इंतजाम
गोरखपुर में कुल पांच विधानसभा सीटें हैं, जहां 970 मतदान केंद्रों पर वोट डाले जाएंगे. फूलपुर में इलाहाबाद जिले की कुल पांच विधानसभा सीटें हैं, जहां 793 मतदान केंद्रों पर वोटिंग होगी. फूलपुर लोकसभा क्षेत्र में आने वाली इलाहाबाद पश्चिमी विधानसभा सीट के 45 मतदान केंद्र व 95 मतदेय स्थल कौशाम्बी जिले में आते हैं.

चुनाव के लिए प्रदेश को 65 कंपनी केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) भी आवंटित की गई हैं. इसके अलावा पुलिस, पीएसी व होमगार्ड के जवानों की अलग से तैनाती की गई है. इलाहाबाद जिले को 30 कंपनी व एक प्लाटून, कौशाम्बी जिले को एक कंपनी व दो प्लाटून तथा गोरखपुर जिले को 33 कंपनी सीएपीएफ आवंटित की गई हैं.

छावनी बने गोरखपुर और फूलपुर
पुलिस महानिदेशक कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार उप चुनाव सकुशल सम्पन्न कराने के लिए इलाहाबाद जिले को 660 सब इंस्पेक्टर, 277 हेड कांस्टेबल, 3997 कांस्टेबल व 4702 होमगार्ड उपलब्ध कराए गए हैं. जबकि कौशाम्बी जिले को 43 सब इंस्पेक्टर, 34 हेड कांस्टेबल, 217 कांस्टेबल व 322 होमगार्ड दिए गए हैं.

जातीय समीकरण
गोरखपुर के जातीय गणित को देखा जाए तो यहां 19.5 लाख वोटरों में से 3.5 लाख वोटर निषाद समुदाय के हैं, जोकि कुल वोटरों का 18 प्रतिशत हिस्‍सा है. सपा-बसपा तालमेल के बाद यदि जातीय समीकरण देखा जाए तो निषाद समुदाय के अलावा यहां करीब साढ़े तीन लाख मुस्लिम, दो लाख दलित, दो लाख यादव और डेढ़ लाख पासवान मतदाता हैं. सपा ने प्रवीण कुमार निषाद को यहां से अपना प्रत्‍याशी बनाया है. बीजेपी उपेंद्र शुक्‍लाऔर कांग्रेस ने डॉ. सुरहिता चटर्जी करीम को प्रत्‍याशी बनाया है.

फूलपुर से बीजेपी ने कौशलेन्द्र सिंह पटेल को प्रत्याशी बनाया है जबकि कांग्रेस ने मनीष मिश्र और सपा ने नागेन्द्र प्रताप सिंह पटेल को उम्मीदवार बनाया है. नौ निर्दलीय सहित कुल 22 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. निर्दलीय उम्मीदवारों में बाहुबली अतीक अहमद भी शामिल हैं. अतीक इसी सीट से 2004 के लोकसभा चुनाव में सपा के टिकट पर विजयी हुए थे. फूलपुर में 18 लाख वोटरों में से 17 प्रतिशत मतदाता पटेल (कुर्मी) समुदाय से हैं.

अररिया में भी जातीय घमासान
आरजेडी सांसद तस्‍लीमुद्दीन के निधन के कारण अररिया लोकसभा सीट पर उपचुनाव हो रहे हैं. उनके बेटे सरफराज आलम जदयू के विधायक थे. लेकिन जब तस्‍लीमुद्दीन का निधन हुआ तो बेटे ने जदयू और विधायकी से इस्‍तीफा देकर राजद का दामन थाम लिया. नतीजतन राजद ने सरफराज को अपना उम्‍मीदवार बना दिया. दूसरी तरफ राजग ने पूर्व सांसद प्रदीप सिंह पर दांव लगाया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here