सुंजवान आतंकी हमले का मास्टर माइंट मुफ्ती व़कास मुठभेड़ में ढेर

0
18

जम्मू : जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में एक एनकाउंटर में जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी मुफ्ती वकास सोमवार को एक मुठभेड़ में मारा गया. सेना और पुलिस की इस संयुक्त कार्रवाई में कई घंटे चली मुठभेड़ में यह कामयाबी हासिल हुई. मारा गया आतंकी सुंजवान आर्मी कैंप पर हुए आतंकी हमले का मास्टरमाइंड बताया गया है. सेना इसे एक बड़ी कामयाबी मान कर चल रही है.

कश्मीर के आईजी एसपी पानी ने बताया कि मारा गया आतंकि जैश-ए-मोहम्मद का कमांडर था और उसकी पहचान मुफ्ती वकास के रूप में हुई है. वकास ने सुंजवान समेत कई हमलों को उसने अंजाम दिया था. सुंजवान आतंकी हमले का वह मास्टरमाइंड था. आईजी ने बताया कि मारे गए आतंकी के पास से हथियार और गोला-बारूद बरामद हुआ है.

कश्मीर के आईजी ने बताया कि आतंकी के पास से आईईडी समेत बम बनाने के कई सामान बरामद हुए हैं. इस मुठभेड़ को सेना की 50 राष्ट्रीय राइफल्स और एसओजी ने मिलकर अंजाम दिया था. उन्होंने बताया कि पूरे इलाके को घेर कर सर्च अभियान चलाया जा रहा है. उन्होंने आशंका जाहिर की कि इलाके में अभी और आतंकी भी हो सकते हैं. उन्होंने बताया कि इस मुठभेड़ में सेना या किसी आम नागरिक को कोई नुकसान नहीं हुआ है.

उन्होंने बताया कि 2017 में कश्मीर घाटी में घुस आया पाकिस्तानी नागरिक वकास आतंकी संगठन के आपरेशन कमांडर के तौर पर काम कर रहा था और उसने दक्षिण कश्मीर के त्राल से आत्मघाती हमलावरों को जम्मू भेजा था जहां उन्होंने 10 फरवरी को सेना के शिविर पर हमला किया था.

बता दें कि पिछले महीने 10 फरवरी को आतंकवादियों ने जम्मू स्थित सुंजवान आर्मी कैंप पर हमला कर दिया था. सेना और आतंकियों के बीच तीन दिन तक मुठभेड़ चली थी. इस हमले में सेना के 5 जवान शहीद हुए थे. एक नागिरक की भी मौत हुई थी. 10 से अधिक लोग घायल हुए थे. सेना ने कार्रवाई करते हुए 4 आतंकियों को मार गिराया था. मारे गए आतंकियों के पास से बड़ी मात्रा में हथियार भी बरामद हुए थे.

इस हमले के बाद रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि सरकार को सुंजवान हमले के पीछे पाकिस्तान का हाथ होने के पुख्ता सबूत हाथ लगे थे और इन सबूतों को विश्व विरादरी के साथ पाकिस्तान को भी दिया गया.