MP उपचुनाव: हार के बावजूद BJP के पिछड़ने के संकेत नहीं दे रहे नतीजे

0
2

मध्‍य प्रदेश में पिछले दिनों हुए कोलारस और मुंगावली उपचुनावों में कांग्रेस ने जीत हासिल की है और बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा है. इससे पहले पिछले नवंबर में चित्रकूट उपचुनावों में भी बीजेपी को हार का मुंह देखना पड़ा था. लिहाजा इन नतीजों के बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि दिसंबर में होने जा रहे विधानसभा चुनावों के लिहाज से पार्टी के प्रदर्शन में गिरावट की बात कही जा रही है और इसके बरक्‍स कांग्रेस के मजबूत होने का अनुमान लगाया जा रहा है.

हालांकि द इकोनॉमिक टाइम्‍स की एक रिपोर्ट के मुताबिक मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के इस कार्यकाल के दौरान मध्‍य प्रदेश में लोकसभा और विधानसभा के लिए कुल 15 सीटों पर उपचुनाव हुए हैं. इनमें बीजेपी और कांग्रेस ने क्रमश: नौ और छह सीटें जीती हैं. इनमें खास बात यह है कि पिछले एक साल के भीतर जिन तीनों विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए हैं, उनमें कांग्रेस ने अपनी बढ़त बरकरार रखी है क्‍योंकि इससे पहले भी इन पर इसी पार्टी का कब्‍जा था. हालांकि रिपोर्ट के मुताबिक इन जीतों में कांग्रेस की जीत का अंतर लगातार घटता गया है. यानी 2013 विधानसभा चुनावों में जितने वोटों के साथ कांग्रेस ने इन सीटों पर जीत हासिल की थी, इन उपचुनावों में उसकी तुलना में कम वोट कांग्रेस को मिले हैं.

मुंगावली और कोलारस
इस रिपोर्ट के मुताबिक कोलारस और मुंगावली में कांग्रेस की जीत का अंतर पहले की तुलना में घटा है. पार्टी हालांकि दोनों सीटों पर जीतने में कामयाब रही लेकिन पिछले बार की तुलना में जीत का अंतर काफी घट गया. मुंगावली में यह अंतर पिछले बार 20 हजार की तुलना में अबकी बार महज दो हजार वोटों तक पहुंच गया. इसके विपरीत हारने के बावजूद बीजेपी ने इन दोनों सीटों पर अपने वोट बढ़ाए हैं. इसी वजह से पार्टी के नेता यह दावा कर रहे हैं कि बीजेपी के खिलाफ कोई सत्‍ता विरोधी लहर नहीं है.

कांग्रेस
2014 के बाद से कांग्रेस ने छह सीटें जीती हैं. इनमें से चार सीटें पहले से ही कांग्रेस के पास थीं. उसको कुल मिलाकर दो अतिरिक्‍त सीटों का लाभ हुआ है. उसने बहोरीबंद विधानसभा सीट(2014) और रतलाम लोकसभा सीट(2015) ही बीजेपी से हासिल करने में कामयाबी हासिल की है. जिन चार सीटों को कांग्रेस ने फिर से जीता है, उनमें से तीन पर पार्टी की जीत का अंतर पिछली बार की तुलना में कम हुआ है. केवल चित्रकूट उपचुनावों में कांग्रेस की जीत का अंतर पिछले बार की तुलना में अधिक रहा है.

बीजेपी
इसके साथ ही बीजेपी ने उपचुनावों में जिन नौ सीटों पर जीत हासिल की है, उनमें से सात पर पहले से ही पार्टी का कब्‍जा था. वह दो अतिरिक्‍त सीटें कांग्रेस से छीनने में कामयाब रही है. इन सब कारणों से मध्‍य प्रदेश बीजेपी के नेता कह रहे हैं कि बीजेपी को आने वाले चुनावों में भी कोई नुकसान नहीं होगा.