अमेरिका से बातचीत के लिए तैयार है उत्तर कोरिया, लेकिन रखी ये शर्त

0
10

प्योंगयांग: उत्तर कोरिया ने शनिवार (3 मार्च) को अमेरिका से बिना किसी पूर्वशर्त के वार्ता करने का आग्रह किया. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने जारी बयान में कहा कि अमेरिका के साथ वार्ता संभव है. कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी के एक अधिकारी ने बताया, “वार्ता के जरिए शांतिपूर्ण तरीकों से मुद्दों को सुलझाने के लिए यह उत्तर कोरिया की सैद्धांतिक स्थिति है.” प्रवक्ता ने बताया कि उत्तर कोरिया और अमेरिका के दशकों लंबे इतिहास में ऐसा कोई भी मामला नहीं है, जब हमने किसी भी तरह की पूर्व शर्त के अमेरिका के साथ वार्ता की हो.

उन्होंने बताया कि उत्तर कोरिया शांतिपूर्ण तरीके से मुद्दों को सुलझाने का इच्छुक है. वह न तो वार्ता के लिए भीख मांगेगा और न ही सैन्य विकल्प से बचेगा. अमेरिका के कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणुनिरस्त्रीकरण की पूर्व शर्त को खारिज करते हुए उत्तर कोरिया का कहना है कि अमेरिका दरअसल प्योंगयांग की तेजी से बढ़ रही परमाणु क्षमता से डरा हुआ है.

उत्तर कोरिया के परमाणु निरस्त्रीकरण के आश्वासन पर वार्ता : व्हाइट हाउस
व्हाइट हाउस ने उत्तर कोरिया की अमेरिका के साथ वार्ता की इच्छा पर प्रतिक्रिया जताते हुए कहा था कि प्योंगयांग के साथ कोई भी चर्चा उसके परमाणु कार्यक्रम को समाप्त करने की दिशा में होनी चाहिए. व्हाइट हाउस ने बीते 25 फरवरी को जारी बयान में कहा, ट्रंप प्रशासन कोरियाई प्रायद्वीप के पूरी तरह परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर प्रतिबद्ध है.

बयान के अनुसार, “हम देखेंगे कि उत्तर कोरिया की वार्ता की आशंका परमाणु निरस्त्रीकरण की दिशा में उठाया गया पहला कदम है या नहीं.” बयान के मुताबिक, “इस बीच अमेरिका और दुनिया को यह स्पष्ट करना होगा कि उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम समाप्ति की कगार पर है.”

‘सीएनएन’ की रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन ने कहा कि वह शीतकालीन ओलम्पिक समारोह के समापन कार्यक्रम से पहले उत्तर कोरियाई प्रतिनिधिमंडल से मिले थे और उन्हें बताया था कि उत्तरी कोरिया-अमेरिका वार्ता जल्द से जल्द होनी चाहिए.