Home > देश > गोवा-मणिपुर से सबक लेते हुए कांग्रेस हुई अलर्ट, गहलोत और आजाद ने कर्नाटक में डेरा डाला

गोवा-मणिपुर से सबक लेते हुए कांग्रेस हुई अलर्ट, गहलोत और आजाद ने कर्नाटक में डेरा डाला

नई दिल्ली : गोवा और मणिपुर विधानसभा चुनाव नतीजों से सबक लेते हुए कांग्रेस कर्नाटक में जोखिम मोल लेने के मूड में नहीं है और शायद यही वजह है कि उसने ‘प्लान बी’ के तहत चुनावी नतीजों से ठीक एक दिन पहले अपने दो वरिष्ठ नेताओं अशोक गहलोत और गुलाम नबी आजाद को बेंगलुरू रवाना कर दिया. माना जा रहा है कि कई एग्जिट पोल में कर्नाटक विधानसभा चुनाव नतीजों में खंडित जनादेश की तस्वीर सामने आने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी गोवा और मणिपुर जैसी स्थिति से निपटने के लिए पहले से तैयारी रखना चाहते हैं. देर शाम दिल्ली से आए काग्रेक के वरिष्ठ नेता मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के आवास पर भी पहुंच गए थे. उनमें केसी वेणुगोपाल भी शामिल हैं.

कांग्रेस ने दावा किया कि उसे कर्नाटक में पूर्ण बहुमत मिलेगा, लेकिन कई न्यूज चैनलों के एग्जिट पोल के नतीजों को ध्यान में रखते हुए पार्टी प्लान-बी भी तैयार किया है. इसी प्लान के तहत दो नेताओं को कर्नाटक भेजा गया है. इतना ही नहीं खुद राहुल गांधी कर्नाटक के कई नेताओं से लगातार संपर्क बनाए हुए हैं.

बता दें कि 12 मई को कर्नाटक में 222 सीटें पर वोट डाले गए थे. चुनावों के नतीजे कल यानी 15 मई को घोषित किए जाएंगे. लेकिन अधिकतर एग्जिट पोल में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिलने का अनुमान लगाया गया है.

उधर, कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने रविवार को कहा था कि अगर कांग्रेस आलाकमान ने कहा तो वह दलित मुख्यमंत्री के लिए पीछे हट जाएंगे. उनके इस बयान को भी जेडीएस के साथ गठबंधन के लिए रास्ता तैयार करने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है.

सिद्धरमैया के बयान के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस के मुख्स प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘‘सिद्धारमैया जी ने यह कहा है कि वो कांग्रेस के किसी कार्यकर्ता के लिए भी, एक दलित साथी के लिए भी जगह बनाकर व्यक्तिगत स्वार्थ छोड़ने के लिए तैयार हैं. ये दिखाता है कि कांग्रेस के नेता राजनीति में किस मापदंड से प्रेरित हैं. क्या नरेन्द्र मोदी जी ये साहस दिखा सकते हैं कि वो प्रधानमंत्री पद किसी दलित नेता को सौंपने को तैयार हो जाएं? ’’

गौरतलब है कि पिछले साल गोवा और मणिपुर विधानसभा चुनावों में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनने के बावजूद सत्ता से दूर रह गई थी और इन दोनों राज्यों में भाजपा सरकार बनाने में सफल रही थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!