महाराष्ट्र में आज कहर मचा सकती है भीषण बारिश, 5 राज्यों में ‘अचानक बाढ़’ का अलर्ट

0
80

नई दिल्ली : देश में मानसून दस्तक दे चुका है और दक्षिणी राज्यों में बारिश भी हो रही है और कुछ इलाकों में पूर्व मानसून बारिश हो रही है. केंद्र सरकार ने देश के पश्चिमी तट पर स्थित पांच राज्यों केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गोवा और गुजरात को आगाह किया कि इस हफ्ते होने वाली भारी बारिश के कारण अचानक से बाढ़ आ सकती है और पश्चिमी घाट से निकलने वाली नदियों का जलस्तर काफी बढ़ सकता है.

जल संसाधन मंत्रालय ने एक परामर्श में कहा कि मौसम विभाग के एक अनुमान के मुताबिक 7 से 12 जून के बीच कुछ जगहों पर भारी से भीषण बारिश और कोंकण एवं गोवा, मध्य महाराष्ट्र के दूरदराज के इलाकों में अति भीषण बारिश हो सकती है. 7 जून को तटीय कर्नाटक में और नौ से 11 जून के बीच पूरे राज्य में जबकि नौ से 10 जून के बीच केरल में दूरदराज के इलाकों में भारी से भीषण बारिश हो सकती है.

परामर्श में कहा गया कि तापी एवं तादरी के बीच नदी के बेसिन में, गोदावरी एवं पश्चिम तट के पास उसकी सहायक नदियों, कृष्णा एवं पश्चिम तट के पास उसकी सहायक नदियों, कावेरी एवं पश्चिम तट के पास उसकी सहायक नदियों और तादरी एवं कन्याकुमारी के बीच नदियों में जल स्तर बढ़ सकता है.

परामर्श में चेतावनी दी गई कि बारिश के पूर्वानुमान के साथ पश्चिमी घाट से निकलने वाली और अरब सागर में मिलने वाली नदियों में अचानक बाढ़ आ सकती हैं. चूंकि अधिकतर नदियां सूखी पड़ी हैं, नदी की तलहटी में गतिविधियों को नियंत्रित करने के लिए जरूरी एहतियाती उपाय किए जा सकते हैं क्योंकि जल प्रवाह में वृद्धि से अचानक लोग एवं सामान डूब सकते हैं.

महाराष्ट्र में भीषण बारिश का अलर्ट
भारतीय मौसम विभाग ने 7 से 11 जून तक महाराष्ट्र, खासतौर से तटीय कोंकण क्षेत्र में भारी से बहुत भारी बारिश बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है. पूर्वानुमान के अनुसार, रत्नागिरि और सिंधुदुर्ग जिलों में 7 और 8 जून को बहुत बारिश की संभावना जताई गई है.

रत्नागिरि, सिंधुदुर्ग, मुंबई, ठाणे, रायगढ और पालघर जिलों में 9 जून को बहुत भारी बारिश की संभावना है जबकि 10 और 11 जून को मुंबई और इसके आसपास के इलाकों सहित कोंकण क्षेत्र के 6 जिलों में इसी तरह के मौसम का पूर्वानुमान लगाया गया है. मुंबई में भीषण बारिश के पूर्वानुमान और दक्षिणपश्चिम मानसून के कारण ज्वारीय लहरों के आगे बढ़ने के साथ महानगर के कुछ इलाकों के जलमग्न होने की आशंका है.

हिमाचल में भी चेतावनी जारी
इस बीच, शिमला से मिली खबर के अनुसार, हिमाचल प्रदेश के कई भागों में बुधवार को जमकर बारिश हुई जिससे तापमान में काफी कमी दर्ज की गई. मौसम विभाग ने बताया कि यह मानसून से पहले की बारिश है. शिमला, सोलन, मंडी, ऊना और बिलासपुर में बुधवार को खूब बारिश हुई. मौसम विभाग के वैज्ञानिक मनीष कुमार ने बताया कि सात से दस जून तक अगले चार दिन मध्य और निचली पहाड़ियों पर बारिश और ओलावृष्टि के साथ आंधी तूफान की चेतावनी दी गई है. सबसे अधिक बारिश सोलन (69 मिलीमीटर) में हुई जबकि जोगिंदरनगर में 50 मिलीमीटर बारिश हुई.

कृष्णागिरी बांध से छोड़ा जाएगा पानी
उधर, तमिलनाडु के कृष्णागिरी जिले में भी प्रशासन ने बाढ़ की चेतावनी जारी की है. यहां कृष्णागिरी, धर्मपुरी, विल्लापुरम, तिरुवन्नामलाई और कुड्डालोर जिलों में पीडब्ल्यूडी विभाग ने यह चेतावनी जारी की है. पीडब्ल्यूडी विभाग ने बताया कि कृष्णागिरी बांध से सोमवार की शाम को पानी छोड़ा जाएगा. पीडब्ल्यूडी ने बांध में पानी के स्तर को कम करने के बाद नए शटर स्थापित करने के लिए बांध से पानी छोड़ा है. पीडब्ल्यूडी के अनुसार, बांध में वर्तमान जल स्तर 37 फीट है. 31 फीट से नीचे पानी का स्तर आने के बाद शटर का काम किया जाएगा. पानी के दबाव के कारण 29 नवंबर, 2017 को बांध के शटर अचानक बंद हो गए थे. उस समय बांध में पानी का स्तर 52 फुट की पूर्ण क्षमता के मुकाबले 51 फुट थे. इससे बांध के शटर कमजोर हो गए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here