अटल बिहारी वाजपेयी का अंतिम संस्कार, दिल्ली की 25 सड़कें रहेंगी बंद, इन रास्तों का करें इस्तेमाल

0
176

नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का अंतिम संस्कार शुक्रवार को शाम चार बजे यहां राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर होगा.स्मृति स्थल जवाहर लाल नेहरू के स्मारक ‘शांति वन’ और लाल बहादुर शास्त्री के ‘विजय घाट’ के बीच स्थित है. शुक्रवार के दिन शांतिवन, आईटीओ के आस-पास के कई रास्ते बंद रहेंगे. दिल्ली ट्रेफिक ने पुलिस ट्वीट कर ऐसे रास्तों की जानकारी दी है साथ वैकल्पिक रास्तों का भी सुझाव दिया है. दिल्ली पुलिस ने ट्वीट कर बताया है कि दिल्ली के 25 मार्ग शनिवार को बंद रहेंगे.

स्मृति स्थल पर अंतिम संस्कार एक ऊंचे स्थल पर होगा जो चारों तरफ से हरियाली से घिरा हुआ है. पूर्व प्रधानमंत्री आई के गुजराल का अंतिम संस्कार यमुना नदी के किनारे दिसम्बर 2012 में स्मृति स्थल पर किया गया था.

वाजपेयी का पार्थिव शरीर उनके सरकारी घर छह, कृष्ण मेनन मार्ग पर रखा गया है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि लोग शुक्रवार को सुबह साढ़े सात बजे से साढ़े आठ बजे तक उनके घर पर श्रद्धांजलि दे सकेंगे. अमित शाह ने कहा कि इसके बाद सुबह नौ बजे उनके पार्थिव शरीर को दीन दयाल उपाध्याय मार्ग स्थित बीजेपी मुख्यालय ले जाया जाएगा.

अमित शाह ने जानकारी दी कि अंतिम यात्रा दोपहर एक बजे बीजेपी मुख्यालय से शुरू होगी और अंतिम संस्कार शाम चार बजे किया जाएगा.

बता दें पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का लम्बी बीमारी के बाद गुरुवार शाम अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में निधन हो गया . वह 93 वर्ष के थे . पूर्व प्रधानमंत्री के निधन की जानकारी देते हुए एम्स के मीडिया एवं प्रोटोकाल डिविजन की अध्यक्ष प्रो. आरती विज ने दी. उन्होंने एक विज्ञप्ति में कहा कि गहरे शोक के साथ हम पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन की सूचना दे रहे हैं . एम्स के अनुसार पूर्व प्रधानमंत्री का निधन आज शाम पांच बजकर पांच मिनट पर हुआ .

विज्ञप्ति में कहा गया है कि वाजपेयी को 11 जून 2018 को एम्स में भर्ती कराया गया था और डाक्टरों की निगरानी में पिछले नौ सप्ताह से उनकी हालत स्थिर बनी हुई थी . एम्स के अनुसार, दुर्भाग्यवश, उनकी स्थिति पिछले 36 घंटों में बिगड़ी और उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया . हमारे सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के बावजूद आज हमने उन्हें खो दिया .  एम्स ने कहा कि हम पूरे देश को हुई इस अपूरणीय क्षति एवं दुख में शरीक हैं .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here