सिंधिया ने शिवराज पर साधा निशाना, बोले- ‘किसानों की जान की बोली लगाते हैं सीएम’

0
115

नीमच: मध्यप्रदेश कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंदसौर जिले में पुलिस की गोली से मारे गए किसानों की मौत का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अपने आपको किसान पुत्र कहते हैं, लेकिन यह कैसा कलयुगी पुत्र है जो किसानों के सीने को गोली से छलनी कर देता है.

सीएम लगाते हैं किसानों की जान की बोली- सिंधिया
जिले के मनासा में शुक्रवार को परिवर्तन रैली को संबोधित करते हुए सिंधिया ने कहा, ‘‘प्रदेश के मुख्यमंत्री अपने आपको किसान का पुत्र कहते हैं, लेकिन ये कैसा कलयुगी पुत्र है जो कि किसानों के सीने को गोली से छलनी कर देता है और जब गोली से सीना छलनी हो जाता है तो वो (मुख्यमंत्री) उनकी जान की बोली लगाते हैं.’’ सिंधिया ने पुलिस फायरिंग में मारे गए एक किसान की पत्नी के प्रशंसा करते हुए कहा, ‘‘मैं शहीद किसान की उस विधवा को धन्यवाद देता हूं, जिसने मुख्यमंत्री की बोली का बहुत ही सटीक जवाब दिया. मुख्यमंत्री ने जब विधवा से कहा कि मैं हूं न और एक करोड़ रुपए का मुआवजा आपको मैं दे रहा हूं, तब उस बहन ने कहा था कि मुख्यमंत्री जी मैं आपको एक करोड़ रुपए देती हूं, आप मेरे पति को वापस कर दीजिए.’’

शिवराज ने मंदसौर कांड की जांच पर औपचारिकता की- कांग्रेस सांसद
सिंधिया ने कहा कि यह मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री का असली चेहरा है. सिंधिया ने कहा कि ये किसानों के बहुत हितैषी बनते हैं लेकिन जब हमारे किसानों ने अपना हक मांगने के लिए शांतिपूर्ण आंदोलन किया तो उन पर गोलियां चलवा दीं, जो बचे उन पर झूठे मुकदमे लगाकर उनको जेल में डाल दिया गया. उन्होंने कहा कि बाद में सरकार ने मंदसौर पुलिस गोली कांड की जांच के लिए आयोग बनाने की औपचारिकता की, लेकिन जिस जैन आयोग की नियुक्ति सरकार ने की, उसने सभी पुलिसकर्मियों को बरी कर दिया. कांग्रेस नेता ने कहा कि लेकिन जनता ये सारी घटनाएं देख रही है और समय आ गया है कि आप इसका जवाब इस जुल्मी सरकार से लें.

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान प्रदेश में जन आशीर्वाद यात्रा निकाल रहे हैं और शासन- प्रशासन की सारी ताकत झोंकने के बावजूद जब जनता उनकी सभाओं में आशीर्वाद देने के लिए नहीं आ रही है तब स्कूल के बच्चों को सभाओं में लाकर उनका भविष्य चौपट किया जा रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘असली अर्थों में मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा नहीं, बल्कि ये उनकी विदाई यात्रा है.’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here