फरहान को मिल्खा सिंह बताने वाले मामले में शिक्षा मंत्री ने कहा- सरकारी किताबें नहीं

0
118

कोलकाता: पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि जिस किताब में अभिनेता फरहान अख्तर की तस्वीर को गलती से दिग्गज एथलीट मिल्खा सिंह के रूप में दिखाया गया है, वह न तो राज्य सरकार ने प्रकाशित की है और ना ही वह कोई पाठ्य पुस्तक है. चटर्जी ने यहां विभाग के अधिकारियों और प्रकाशक के साथ बैठक के बाद संवाददाताओं को बताया कि अगर कोई औपचारिक तौर पर इस मामले को सरकार के पास लेकर आएगा तो हम निश्चित रूप से आवश्यक कार्रवाई शुरू करेंगे.

मंत्री ने कहा, ‘‘यह राज्य सरकार द्वारा प्रकाशित पाठ्य पुस्तक नहीं है और कुछ किताबों में ऐसी गलतियां हो सकती हैं हालांकि यह दुर्भाग्यपूर्ण है. राज्य सरकार खुद हस्तक्षेप नहीं करेगी लेकिन अगर कोई औपचारिक शिकायत दर्ज कराएगा तो कार्रवाई होगी.’’ इस बीच, प्रकाशक अनूप दास ने स्वीकार किया कि यह ‘‘गंभीर गलती’’ है और उन्होंने इस गलती को सुधारने का आश्वासन दिया.

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में एक स्कूल की पाठ्यपुस्तक में फरहान अख्तर को प्रसिद्ध एथलीट मिल्खा सिंह बताने वाली एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है और अभिनेता ने राज्य सरकार से इस ‘‘घोर गलती’’ को सुधारने का अनुरोध किया है. साल 2013 में आई मिल्खा सिंह की बायोपिक ‘‘भाग मिल्खा भाग’’ में उनका किरदार निभाने वाले 44 वर्षीय अभिनेता ने टि्वटर पर कहा कि असली एथलीट की तस्वीर के बजाय फिल्म की एक तस्वीर का किताब में गलत तरीके से इस्तेमाल किया गया.

अख्तर ने एक टि्वटर यूजर द्वारा साझा की गई तस्वीर को री-ट्वीट करते हुए लिखा, ‘‘पश्चिम बंगाल के स्कूल शिक्षा मंत्री के लिए. स्कूल की एक किताब में मिल्खा सिंह जी को बताने वाली तस्वीर में घोर गलती है. कृपया आप प्रकाशक से पुस्तक वापस लेने और उसे बदलने का अनुरोध करें?’’ अभिनेता-निर्देशक ने अपनी पोस्ट पर ध्यान आकर्षित करने के लिए राज्यसभा सांसद डेरेक ओ-ब्रायन को भी टैग किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here