सीएम शिवराज को जान से मारने की धमकी देने वाले दो भाई गिरफ्तार, जमानत पर रिहा

0
83

भोपाल: मध्यप्रदेश के सिवनी जिले में रहने वाले दो सगे भाइयों को पुलिस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जान से मारने की धमकी देने के मामले में गिरफ्तार किया है. पूछताछ के बाद दोनों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है. भोपाल पुलिस की साइबर शाखा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुदीप गोयंका ने बताया, ‘‘हमने जितेन्द्र अर्जुनवार (32) और भरत अर्जुनवार (25) को आईपीसी और आईटी अधिनियम की संबंद्ध धाराओं में गिरफ्तार किया. जितेन्द्र ने 5 अगस्त से 7 अगस्त के बीच पांच बार ट्वीट किया कि वह मुख्यमंत्री को जान से मार देगा.’’ उन्होंने कहा कि भरत अपने भाई के लिए सिम लाया था और धमकी देने के लिए उसका ट्विटर खाता शुरु किया.

सोशल मीडिया पर किए थे ट्वीट
एएसपी ने बताया कि सोशल मीडिया का परीक्षण करने के दौरान हमें सात अगस्त को यह ट्वीट मिला. इसमें जितेन्द्र ने ट्वीट किया था, ‘‘मैं मुख्यमंत्री को जान से मार दूंगा, अगर वह सिवनी आये और मैं मजाक नहीं कर कर रहा हूं, सच बोल रहा हूं, मैं इस महीने मार दूंगा.’’ मालूम हो कि जितेन्द्र मई में ही पाकिस्तान से वापस सिवनी जिले में अपने घर वापस आया है. जितेन्द्र अनजाने में सीमा पार कर पाकिस्तान चला गया था. सीएम चौहान अपनी जनआशीर्वाद यात्रा के तहत सिवनी जिले में आए थे. प्रदेश में कुछ माह बाद ही विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं.

जमानत पर हो गए रिहा
एएसपी ने बताया कि दोनों भाइयों को जमानती धाराओं में गिरफ्तार किया गया. दोनों को सिवनी से भोपाल लाया गया और विस्तृत पूछताछ के बाद दोनों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है. उन्होंने कहा, ‘‘जितेन्द्र ने कुछ व्यक्तिगत कारणों या शायद प्रसिद्धि पाने के लिये यह धमकी भर ट्वीट किया था. इस धमकी के पीछे किसी संगठन का हाथ नहीं पाया गया है.’’ सूत्रों के मुताबिक जितेन्द्र को हिपबोन में सिकल सेल एनीमिया नामक बीमारी है और इसकी वजह से वह बिना सहारे के चल नहीं पाता है.

भोपाल: मध्यप्रदेश के सिवनी जिले में रहने वाले दो सगे भाइयों को पुलिस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जान से मारने की धमकी देने के मामले में गिरफ्तार किया है. पूछताछ के बाद दोनों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है. भोपाल पुलिस की साइबर शाखा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुदीप गोयंका ने बताया, ‘‘हमने जितेन्द्र अर्जुनवार (32) और भरत अर्जुनवार (25) को आईपीसी और आईटी अधिनियम की संबंद्ध धाराओं में गिरफ्तार किया. जितेन्द्र ने 5 अगस्त से 7 अगस्त के बीच पांच बार ट्वीट किया कि वह मुख्यमंत्री को जान से मार देगा.’’ उन्होंने कहा कि भरत अपने भाई के लिए सिम लाया था और धमकी देने के लिए उसका ट्विटर खाता शुरु किया.

सोशल मीडिया पर किए थे ट्वीट
एएसपी ने बताया कि सोशल मीडिया का परीक्षण करने के दौरान हमें सात अगस्त को यह ट्वीट मिला. इसमें जितेन्द्र ने ट्वीट किया था, ‘‘मैं मुख्यमंत्री को जान से मार दूंगा, अगर वह सिवनी आये और मैं मजाक नहीं कर कर रहा हूं, सच बोल रहा हूं, मैं इस महीने मार दूंगा.’’ मालूम हो कि जितेन्द्र मई में ही पाकिस्तान से वापस सिवनी जिले में अपने घर वापस आया है. जितेन्द्र अनजाने में सीमा पार कर पाकिस्तान चला गया था. सीएम चौहान अपनी जनआशीर्वाद यात्रा के तहत सिवनी जिले में आए थे. प्रदेश में कुछ माह बाद ही विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं.

जमानत पर हो गए रिहा
एएसपी ने बताया कि दोनों भाइयों को जमानती धाराओं में गिरफ्तार किया गया. दोनों को सिवनी से भोपाल लाया गया और विस्तृत पूछताछ के बाद दोनों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है. उन्होंने कहा, ‘‘जितेन्द्र ने कुछ व्यक्तिगत कारणों या शायद प्रसिद्धि पाने के लिये यह धमकी भर ट्वीट किया था. इस धमकी के पीछे किसी संगठन का हाथ नहीं पाया गया है.’’ सूत्रों के मुताबिक जितेन्द्र को हिपबोन में सिकल सेल एनीमिया नामक बीमारी है और इसकी वजह से वह बिना सहारे के चल नहीं पाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here